Jannat Mein Qadam Hai Lyrics

Phir Pesh e Nazar Gumbad e Khazra Hai Haram Hai
Phir Naam e Khuda Rouza e Jannat Me Qadam Hai

 

Phir Shukr e Khuda Samne Mahrab e Nabi Hai
Phir Sar Hai Mera Aur Tera Naqsh e Qadam Hai

 

Phir Pesh e Nazar Gumbad e Khazra Hai Haram Hai
Phir Naam e Khuda Rouza e Jannat Me Qadam Hai

 

Mahrab e Nabi Hai Ke Koi Toor Tajalla
Dil Shouq se Labrez Hai Aur Aankh Bhi Nam Hai

 

Phir Pesh e Nazar Gumbad e Khazra Hai Haram Hai
Phir Naam e Khuda Rouza e Jannat Me Qadam Hai

 

Phir Minnate Darban Ka Aijaz Mila Hai
Ab Dar Hai Kisi Ka Na Kisi Cheez Ka Gham Hai

 

Phir Pesh e Nazar Gumbad e Khazra Hai Haram Hai
Phir Naam e Khuda Rouza e Jannat Me Qadam Hai

 

Phir Baargah e Sayyad e Kounain Me Pahuncha
Ye Unka Karam, Unka Karam, Unka Karam Hai

 

Phir Pesh e Nazar Gumbad e Khazra Hai Haram Hai
Phir Naam e Khuda Rouza e Jannat Me Qadam Hai

 

Ye Zarra e Na Cheez Hai Khurshid Ba-Dama
Dekh Unke Ghulamon Ka Bhi Kya Jaah-o-Hasham Hai

 

Phir Pesh e Nazar Gumbad e Khazra Hai Haram Hai
Phir Naam e Khuda Rouza e Jannat Me Qadam Hai

 

Rag-Rag Me Mohabbat Ho Rasool e Arbi Ki
Jannat Ke Khazinon Ki Yehi Bai’e Salam Hai

 

Phir Pesh e Nazar Gumbad e Khazra Hai Haram Hai
Phir Naam e Khuda Rouza e Jannat Me Qadam Hai

 

Wo Rahmat e Aalam Hein Shahe Aswad-o-Aahmar
Wo Sayyad e Kounain Hein Aaqa e Umam Hein

 

Phir Pesh e Nazar Gumbad e Khazra Hai Haram Hai
Phir Naam e Khuda Rouza e Jannat Me Qadam Hai

 

Wo Aalam e Tauheed Ka Mazhar Hai Ke Jisme
Mashriq Hai, Na Maghrib Hai, Na Arab Hai, Na Ajam Hai

 

Phir Pesh e Nazar Gumbad e Khazra Hai Haram Hai
Phir Naam e Khuda Rouza e Jannat Me Qadam Hai

 

Dil Naate Rasool e Arbi Kahne Ko Hai Be-chain
Aalam Hai Tahaiyul Ka Zuba.n Hai Na Qalam Hai

 

Phir Pesh e Nazar Gumbad e Khazra Hai Haram Hai
Phir Naam e Khuda Rouza e Jannat Me Qadam Hai

 

 

फिर पेश ए नज़र गुम्बद ए ख़ज़रा है ह़रम है
फिर नाम ए ख़ुदा रौज़ा ए जन्नत में क़दम है

 

फिर शुक्र ए ख़ुदा सामने महराब ए नबी है
फिर सर है मेरा और तेरा नक़्शे क़दम है

 

फिर पेश ए नज़र गुम्बद ए ख़ज़रा है ह़रम है
फिर नाम ए ख़ुदा रौज़ा ए जन्नत में क़दम है

 

महराब ए नबी है के कोई तूर तजल्ला
दिल शौक़ से लबरेज़ है और आंख भी नम है

 

फिर पेश ए नज़र गुम्बद ए ख़ज़रा है ह़रम है
फिर नाम ए ख़ुदा रौज़ा ए जन्नत में क़दम है

 

फिर मिन्नतें दरबान का एजाज़ मिला है
अब डर है किसी का ना किसी चीज़ का ग़म है

 

फिर पेश ए नज़र गुम्बद ए ख़ज़रा है ह़रम है
फिर नाम ए ख़ुदा रौज़ा ए जन्नत में क़दम है

 

फिर बारगाह ए सय्यिदे कौनैन में पहुंचा
ये उनका करम, उनका करम, उनका करम है

 

फिर पेश ए नज़र गुम्बद ए ख़ज़रा है ह़रम है
फिर नाम ए ख़ुदा रौज़ा ए जन्नत में क़दम है

 

ये ज़र्रा ए ना चीज़ है ख़ुर्शीद बा-दामां
देख उनके ग़ुलामों का भी क्या जाह-ओ-हशम है

 

फिर पेश ए नज़र गुम्बद ए ख़ज़रा है ह़रम है
फिर नाम ए ख़ुदा रौज़ा ए जन्नत में क़दम है

 

रग-रग में मोहब्बत हो रसूल ए अरबी की
जन्नत के ख़ज़ीनों की यही बै’ए सलम है

 

फिर पेश ए नज़र गुम्बद ए ख़ज़रा है ह़रम है
फिर नाम ए ख़ुदा रौज़ा ए जन्नत में क़दम है

 

वो रह़मत ए आ़लम हैं शहे असवद-ओ-आह़मर
वो सय्यिदे कौनैन हैं आक़ा ए उमम हैैं

 

फिर पेश ए नज़र गुम्बद ए ख़ज़रा है ह़रम है
फिर नाम ए ख़ुदा रौज़ा ए जन्नत में क़दम है

 

वो आ़लम ए तौहीद का मज़हर है के जिसमें
मशरिक़ है, ना मग़रिब है, ना अरब है, ना अजम है

 

फिर पेश ए नज़र गुम्बद ए ख़ज़रा है ह़रम है
फिर नाम ए ख़ुदा रौज़ा ए जन्नत में क़दम है

 

दिल नाते रसूल ए अरबी कहने को है बे-चैन
आ़लम है तह़य्युल का ज़ुबाँ है ना क़लम है

 

फिर पेश ए नज़र गुम्बद ए ख़ज़रा है ह़रम है

फिर नाम ए ख़ुदा रौज़ा ए जन्नत में क़दम है

By sulta