Jahan Bhi Ho Wahi Se Do Naat Lyrics

 

जहां भी हो वहीं से दो सदा सरकार सुनते हैं
सरे आईना सुनते हैं पसे दीवार सुनते हैं
Jahan Bhi Ho Wahin Se Do Sada Sarkar Sunte Hain
Sarey Aaina Sunte Hain Pa’sey Deewar Sunte Hain

 

मेरी सांसें भी उनकी आहटों के साथ चलती हैं
मेरे दिल के धड़कने की भी वोह रफ़तार सुनते हैं
Meri Sanse.n Bhi Unki Aahato.n Ke Sath Chalti Hain
Mere Dil Ke Dhadakne Ki Bhi Woh Raftaar Sunte Hain

 

मैं सदक़े जाऊं उनकी रह़मतललिल आ़लामीनी पर
पुकारो चाहें जितनी बार वोह हर बार सुनते हैं
Mai Sadqe Jaun Unki Rahmatal’lil Aalameeni Par
Pukaro Chahen Jitni Baar Woh Har Baar Sunte Hain

 

खड़े रहते हैं अहले तख़्त भी दरबार में उनके
फ़क़ीरों की सदाएं भी मेरे सरकार सुनते हैं
Khade Rahte Hain Ahle Takht Bhi Darbar Me Unke
Faqiro.n Ki Sadaye.n Bhi Mere Sarkar Sunte Hain

 

मुज़फ्फ़र जब किसी महफ़िल में उनकी नात पढ़ता हूँ
मेरा ई़मान है कि वो मेरे अशयार सुनते हैं
Muzaffar Jab Kisi Mahfil Me Unki Naat Padhta Hun
Mera Imaan Hai Ki Woh Mere Ashyar Sunte Hain

 

By sulta