Is Sadi Me Peer Aisa Dhoondte Rah Jaoge Lyrics

Shayar: Wasim Bekhud

Naat Khwan: Abdul Hafeez Qadri

Is sadi me peer aisa dhoondhte rah jaoge

Saani e tajushsharia dhoondhte rah jaoge

इस सदी में पीर ऐसा ढूंढते रह जाओगे
सानी ए ताजुश्शरिया ढूंढते रह जाओगे

 

Sari duniya me hai shohrat us Raza Ke Lal ki
Har taraf woh taaj wala dhoondhte rah jaoge
सारी दुनिया में है शोहरत उस रज़ा के लाल की
हर तरफ़ वोह ताज वाला ढूंढते रह जाओगे

 

Chhod kar akhtar raza Ko is jahan ki bheed me
Rah-Numaai karne wala dhoondhte rah jaoge
छोड़ कर अख़तर रज़ा को इस जहाँ की भीड़ में
रह-नुमाई करने वाला ढूंढते रह जाओगे

 

Waris e ilme Raza Hain, Naaib e All e Nabi
Ilm-o-Hikmat Ka Khazana dhoondhte rah jaoge
वारिस ए इ़ल्म ए रज़ा हैं, नाइब ए आले नबी
इ़ल्म ओ हिकमत का ख़ज़ाना ढूंढते रह जाओगे

 

Inke Daman Ko Pakad Lo Aaj, Sulh-e-Kulliyo
Hashr Me Inka Sahara dhoondhte rah jaoge
इनके दामन को पकड़ लो आज, सुल्ह-ए-कुल्लियो
हश्र में इनका सहारा ढूंढते रह जाओगे

 

Aaj BEKHUD Thaam Lo Tum Daman e Akhtar Raza
Warna Mahshar Me Wasila dhoondhte rah jaoge
आज बेखुद थाम लो तुम दामन ए अख़तर रज़ा
वरना महशर में वसीला ढूंढते रह जाओगे

By sulta