Ik shabe taar hai naat lyrics

 

 

ik shab e taar hai naat hindi
Ik Shabe Taar Hai Lyrics
Ik shabe taar hai
Ik shabe taar hai

 

Aur ek ghaar hai, Aur us ghaar me
Ek sachha hai aur ek sachhaai hai

 

Ik mohabbat hai aur ek hubdaar hai
Be-panaah pyaar hai, Be-panaah pyaar hai

 

Jispe shahid hai aur noorani farman bhi
Rab ka Qur’aan bhi, Rab ka Qur’aan bhi

 

Zaanu-e-yaar par yaar filghaar par
Doulat e do jahan, Doulat e do jahan
Jalwa paira hui, Jalwa paira hui
Faiz farma.n hui, Faiz farma.n hui

 

Be-panaah pyaar hai …

 

Mere sarkar ka apne allah se
Be-panaah pyaar hai

 

Mere siddiq ka apne mahboob se
Be-panaah pyaar hai

 

Lekin us ghaar ke kone khudre me maujood
Ik saanp se
Ye taqarrub ka manzar na dekha gaya
Shokh ne das liya, saanp ke zahar se
Japt siddiq-e-akbar ka toota magar
Sanp ko kya khabar, Sanp ko kya khabar

Iski tar aankh se unke rukhsaar tak
Nukrayi aab ka, mahram-e-khaab tak
Jo safar ho gaya motbar ho gaya

 

Naat Khwan: Khalid Hasnain Khalid

इक शबे तार है Lyrics In Hindi
इक शबे तार है
इक शबे तार है

 

और एक ग़ार है और उस ग़ार में
एक सच्चा है और एक सच्चाई है

 

इक मोहब्बत है और एक हुबदार है
बेपनाह प्यार है, बेपनाह प्यार है

 

जिस पे शाहिद है और नूरानी फरमान भी
रब का कुरआन भी, रब का कुरआन भी

 

ज़ानू-ए-यार पर यार फिलगार पर
दौलत ए दो जहां, दौलत ए दो जहां
जल्वा पैरा हुई, जल्वा पैरा हुई
फ़ैज़ फ़रमां हुई, फ़ैज़ फ़रमां हुई

बेपनाह प्यार है …

 

मेरे सरकार का अपने अल्लाह से
बेपनाह प्यार है

 

मेरे सिद्दीक़ का अपने महबूब से
बेपनाह प्यार है

 

लेकिन उस ग़ार के कोने खुदरे में मौजूद इक सांप से
ये तक़र्रुब का मंज़र ना देखा गया
शोक ने डस लिया सांप के ज़हर से
जप्त सिद्दीक़-ए-अकबर का टूटा मगर
सांप को क्या खबर, सांप को क्या खबर

इसकी तर आंख से उनके रुखसार तक
नुकरई आब का, मैहरम-ए-ख्वाब तक
जो सफ़र हो गया, मोतबर हो गया

 

By sulta