Hayya Ala Khairil Amal Qawwali Lyrics

 

हय्या अला खैरिल अमल
Hayya Ala Khairil Amal

 

आंखें बिछा पैरो तले
जिन पर मेरे आक़ा चले
तू भी उन्हीं राहों पे चल
हय्या अला खैरिल अमल

Ankh Bichha Paro tale
Jin par mere aaqa chale
Tu bhi unhin Raahon pe chal
Hayya Ala Khairil Amal

 

अपनी त़रफ़ तकता नहीं
तुझसा कोई यकता नहीं
झोका किसी तूफ़ान का
तुझको बुझा सकता नहीं

Apni taraf yakta nahin
Tujhsa koi sakta nahin
Jhoka kisi toofan ka
Tujhko bujha sakta nahin

 

कर बैअ़त ए इ़श्क़ ओ वफ़ा
पी जा शराब ए मुस्तफ़ा
पीने में जल हाथों पे जल
हय्या अला खैरिल अमल

Kar bai’at e ishq o wafa
Pi ja sharab e mustafa
Pine me jal haathon pe jal
Hayya Ala Khairil Amal

 

जब फ़र्ज़ तुझको याद है
फिर तुझपे क्यूँ उफ़्ताद है
शागिर्दी ए दुनिया न कर
तू वक़्त का उस्ताद है

Jab farz tujhko yaad hai
Phir tujhpe kyon uftaad hai
Shagidi-e-duniya na kar
Tu waqt ka ustaad hai

 

दिल सरवरे दीं से लगा
आंखें नहीं क़िसमत जगा
चेहरा नहीं शीशा बदल
हय्या अला खैरिल अमल

Dil sarware deen se laga
Aankhen nahin qismat jaga
Chehra nahin sheeaha badal
Hayya Ala Khairil Amal

 

सारे सनम मिसमार कर
खैरुल बशर से प्यार कर
रखकर नबी को सामने
आराइश ए किरदार कर

Saare sanam mismaar kar
Khairul bashar se pyaar kar
Rakhkar nabi ko saamne
Aaraish-e-kirdaar kar

 

अपनायेगी रह़मत तुझे
मिल जायेगी जन्नत तुझे
अपने अज़ाबों से निकल
हय्या अला खैरिल अमल

Apnayegi rahmat tujhe
Mil jayegi jannat tujhe
Apne azaabon se nikal
Hayya Ala Khairil Amal

 

क्यूँ सर्द है तेरा लहू
मायूस क्यूँ इतना है तू
कुरआन की आवाज़ में
सुन नग़मा ए ला तख़नतू

Kyon sard hai tera lahu
Mayoos kyun itna hai tu
Kur’aan ki Aawaz me
Sun naghma-e-la takhna tu

 

तुझमें तो उसकी बास है
इस जान ए ह़क़ के पास है
तेरी हर इक मुश्किल का हल
हय्या अला खैरिल अमल

Tujhme to uski baas hai
Is jaan-e-haq ke paas hai
Teri har ik mushkil ka hal
Hayya Ala Khairil Amal

 

सीने में वो शम्में ढलें
जो क़ब्र के अन्दर जलें
सिक्के वो अपने पास रख
जो आख़िरत में भी चलें

Seene me wo shamme dhalen
Jo qabr ke andar jale
Sikke wo apne paas rakh
Jo aakhirat me bhi chalen

 

अन्दर से भी हो जा हरा
खिलने से पहले मुस्कुरा
गिरने से पहले ही संभल
हय्या अला खैरिल अमल

Andar se bhi ho ja hara
Khilne se pahle muskura
Girne se pahle bhi sambhal
Hayya Ala Khairil Amal

By sulta