Fariyad E Quran Lyrics

 

Fariyad E Quran Lyrics || फ़रियाद ए क़ुरआन लिरिक्स

 

तुम्हारे घर में ऐ लोगो कोई मज़लूम रहता है
Tumhare ghar me Ay logon Koi mazloom rehta hai

 

ज़रा ढूंडो तलाशी लो कही रोता सिसकता है
तुम्हारे घर में ऐ लोगो कोई मज़लूम रहता है
Zara dhoondo talashi lo kahin rota sisakta hai
Tumhare ghar me ay logon koi mazloom rahta hai

कभी ईमान की ऐनक लगाकर ढ़ंढना उसको
कभी घर के किस गोशे में जकार ढूढना उसको
कभी तुम ग़ौर से सुन्ना बहुत फ़रियाद करता है….

तुम्हारे घर में …..

 

Kabhi iman ki ainak laga kar dhoondhna usko
Kabhi ghar ke kisi goshe me jakar dhoondhna usko
Kabhi tum ghour se sunna bahut Fariyad karta hai….

Tumhare ghar me…..

 

जहां पर ज़ुल्म होता है वहां रहमत नहीं आती
हज़ारों विर्द कर डालो मगर बरकत नहीं आती
करेगा हश्र में दावा अभी खामोश बैठा है….

तुम्हारे घर में…

Jahan par zulm hota hai waha rahmat nahi aati
Hazaro’n vird kar dalo magar barkat nahi aati
Karega hashar me dawa abhi khamosh baitha hai….

Tumhare ghar me…

 

कभी बातें करो उससे ये दिल की बात करता है
वो माज़ी हाल मुस्तक़बिल की तुम से बात करता है
तदब्बुर और तफक्कुर की तुम्हें तलक़ीन करता है…

तुम्हारे घर में….

Kabhi baten karo us se ye dil ki baat karta hai
Wo maazi hal mustaqbil ki tum se baat karta hai
Tadabbur aur tafakkur ki tumhe talqeen karta hai….

Tumhare ghar me….

 

कभी ले जाता है जलती हुई दोज़ख की गारों तक
कभी परवाज़ करवाता है जन्नत की बहारों तक
कभी वो अम्बिया इकराम के किससे सुनाता है….

तुम्हारे घर में…

Kabhi le jata hai jalte hue dozaq ke gharo’n tak
Kabhi parwaz karwataa hai jannat ki baharon tak
Kabhi wo ambiya ikram ke qisse sunata hai….

Tumhare ghar me…

 

सबी मशरूफ हैं नफ्सानी ख्वाहिश के तवाफों में
मगर वो क़ैद है जुज़्दान के रंगीन गिलाफों में
वो आपके वालियों वारिस को हर दम याद करता है…..

तुम्हारे घर में…

Sabhi masroof hain nafsani khwahish ke tawafo me
Magar wo qaid hai juzdan ke rangeen gilafo me
Wo aapne waliyo waris ko har dam yaad karta hai…..

Tumhare ghar me…

 

कभी जो ग़म से घबराओ तो उस से बात कर लेना
कभी दुनिया से थक जाओ तो उसे बात कर लेना
बड़ी ढांढस बंधाता है सुकूने क़ल्ब देता है….

तुम्हारे घर में…

Kabhi jo gham se ghabrao toh us se baat kar lena
Kabhi duniya se thak jaao toh us se baat kar lena
Badi dhandas bandhata hai sukun-e-qalb deta hai….

Tumhare ghar me…

 

जहाँ पर साथ अपने यार भी सब छोड़ जाते हैं
अजीज़ों अक़रबा फ़र्ज़ंद रिश्ता तोड़ जाते हैं
वहीं ये क़ब्र की तनहाई में भी सात देता है….

तुम्हारे घर में…

Jahan par saat apne yaar bhi sab chor jate hain
Aazizon aqraba farzand rishta tood jate hain
Wahin ye qabr ki tanhai me bhi saat deta hai….

Tumhare ghar me…

 

इसी के इ़ल्म से ईसा ने मुर्दों को जिलाया था
इसी के इल्म से बिल्क़ीस का भी तख़्त आया था
इस के इल्म से पानी पे इन्सां राह चलता है…

तुम्हारे घर में…

Isi ke ilm se isa ne murdon ko jilaya tha
Isi ke ilm se bilqees ka bhi takht aaya tha
Isi ke ilm se pani pe insa(n) rah chalta hai…

Tumhare ghar me…

 

अभी भी वक़्त है ऐ लोगों बढ़कर ढूंढ लो उसको
लगा लो आंख से तौबा करो और चूम लो उसको
गुज़ारें किस तरहां से ज़िदगी ये दर्स देता है..

तुम्हारे घर में…

Abhi bhi waqt hai ay logon badh kar dhoundlo usko
Laga lo aankh se tauba karo aur choom lo usko
Guzare kis tarhan se zindagi ye dars deta hai..

Tumhare ghar me…

 

मुसलमानो सुनो अल्लाह का एहसान कहते हैं
बताऊं कैसे उस मज़लूम को क़ुरआन कहते हैं
जो अपनी बेबसी पर रात दिन आंसू बहाता है…

तुम्हारे घर में….

Musalmano suno allah ka ehsan kehte hain
Bataun kaise Us mazloom ko “Quraan” kehte hain
Jo aapni bebasi par raat din ansoo bahata hai…

Tumhare ghar me….

 

सुना होगा ये “ऐ़नी” मूसा कितनी दूर तक पहुंचे
खुदा से बात करने के लिए वो तूर तक पहुंचे
मगर क़ुरआन में “आमिर” खुदा खुद बात करता है

तुम्हारे घर में…

Suna hoga ye “aini” moosa kitni dur tak pahunche
Khuda se baat karne ke liye wo toor tak pahunche
Magar quraan me “aamir” khuda khud baat karta hai

Tumhare ghar me…

 

 

By sulta