Ey Imaamul Huda Muhibbe Rasool Naat lyrics

 

 

Shayar: Ala Hazrat | Naat e Paak

Hadaaiqe Bakhshish Part 2

 

ऐ इमामुल हुदा मुह़िब्बे रसूल

दीन के मुक़्तदा मुह़िब्बे रसूल

Ey Imaamul Huda Muhibbe Rasool

Deen Ke Muqtada Muhibbe Rasool

 

नाइबे मुस्त़फा मुह़िब्बे रसूल

साह़िबे इस्त़फा़ मुह़िब्बे रसूल

Naaibe Mustafa Muhibbe Rasool

Saahibe Istafa Muhibbe Rasool

 

ख़ादिमें मुर्तज़ा मुह़िब्बे रसूल

मज़हरे इर्तज़ा मुह़िब्बे रसूल

Khaadim-E-Murtaza Muhibbe Rasool

Mazhare Irtaza Muhibbe Rasool

 

ऐ़न ह़क़ का बना मुह़िब्बे रसूल

ऐ़न ह़क़ का बना मुह़िब्बे रसूल

Ain Haq Ka Bana Muhibbe Rasool

Ain Haq Ka Bana Muhibbe Rasool

 

जुब्दतुल अत्क़िया मुह़िब्बे रसूल

उम्दतुल अज़्किया मुह़िब्बे रसूल

Judtul Atqiya Muhibbe Rasool

Umdatul Azkiya Muhibbe Rasool

 

गुरबा पर फ़िदा मुह़िब्बे रसूल

उ-मरा से जुदा मुह़िब्बे रसूल

Gurba Par Fida Muhibbe Rasool

Umra Se Juda Muhibbe Rasool

 

ऐ सलक़ इक़्तिदा मुह़िब्बे रसूल

ऐ ख़लफ़ पेशवा मुह़िब्बे रसूल

Ey Salaq Iqtida Muhibbe Rasool

Ey Khalaf Peshwa Muhibbe Rasool

 

सुक़्में दिल की शिफ़ा मुह़िब्बे रसूल

चश्में दीं की सफ़ा मुह़िब्बे रसूल

Suqme Dil Ki Shifa Muhibbe Rasool

Chashme Dee Ki Safa Muhibbe Rasool

 

शर्क़े शाने वफ़ा मुह़िब्बे रसूल

बर्क़े जाने जफ़ा मुह़िब्बे रसूल

Sharqe Shaane Wafa Muhibbe Rasool

Barqe Jaane Jafa Muhibbe Rasool

 

ऐ करम की घटा मुह़िब्बे रसूल

अपनी बारिश बढ़ा मुह़िब्बे रसूल

Ey Karam Ki Ghata Muhibbe Rasool

Apni Bearish Bada Muhibbe Rasool

 

क्यूं न हो चांद सा मुह़िब्बे रसूल

नूर का जब्हा सा मुह़िब्बे रसूल

Kyon Na Ho Chand Sa Muhibbe Rasool

Noor Ka Jabha Saa Muhibbe Rasool

 

ह़रमैनो ह़िमा में बस के गया

न जफ़ो करबला मुह़िब्बे रसूल

Harmaino Hima Me Bas Ke Gaya

Na Jafo Karbala Muhibbe Rasool

 

तू कलामे खुदा का ह़ाफ़िज़ है

तेरा ह़ाफ़िज़ खुदा मुह़िब्बे रसूल

Tu Kalam-E-Khuda Ka Hafiz Hai

Tera Hafiz Khuda Muhibbe Rasool

 

अ़ब्दे क़ादिर न क्यूं हो नाम की है

ज़िल्ले ग़ौसुल वरा मुह़िब्बे रसूल

Abde Qadir Na Kyon Ho Naam Ki Hai

Zille Ghousul Wara Muhibbe Rasool

 

अच्छे प्यारे की ख़ानाज़ादी है

अच्छा प्यारा बना मुह़िब्बे रसूल

Achche Pyare Ki Khanazaadi Hai

Achcha Pyara Bana Muhibbe Rasool

 

शर्म वाले ग़नी का बेटा है

काने जूदो ह़या मुह़िब्बे रसूल

Sharm Wale Ghani Ka Beta Hai

Kaane Joodo Haya Muhibbe Rasool

 

आज क़ाइम है दम क़दम से तेरे

दीने ह़क़ की बिना मुह़िब्बे रसूल

Aaj Qaaim Hai Dum Qadam Se Tere

Deene Haq Ki Bina Muhibbe Rasool

 

ठीक मे’यारे सुन्नियत है आज

तेरी हुब्बो विला मुह़िब्बे रसूल

Theek Me’yaar Sunniyat Hai Aaj

Teri Hubbo Wila Muhibbe Rasool

 

सुन्नियत से फिरा हुदा से फिरा

अब जो तुझ से फिरा मुह़िब्बे रसूल

Sunniyat Se Fira Huda Se Fira

Ab Jo Tujhse Fira Muhibbe Rasool

 

मुस्त़फा का हुवा खुदा का हुवा

अब जो तेरा हुवा मुह़िब्बे रसूल

Mustafa Ka Hua Khuda Ka Hua

Ab Jo Tera Hua Muhibbe Rasool

 

मुज़्निबे बद मज़ाक़ रा ज़ह़रस्त

शह़द साफ़े शुमा मुह़िब्बे रसूल

Muznibe Bad Mazaaq Raa Zahrast

Shahad Safey Shuma Muhibbe Rasool

 

आ़सियों रु सियाह दुश्मनें तुस्त

रंगे रुशुद गवा मुह़िब्बे रसूल

Aasiyon Roo Siyaah Dushman-E-Tust

Range Rooshud Gawa Muhibbe Rasool

 

ख़ार ज़ारो के वासित़े है समूम

गुलबनो को सबा मुह़िब्बे रसूल

Khaar Zaaro Ke Waasite Hai Samoom

Gulbano Ko Saba Muhibbe Rasool

 

हदमे बुनयाने नज्द का तुर्रा

तेरे सर पर सजा मुह़िब्बे रसूल

Hadme Bunyaane Najd Ka Turra

Tere Sar Par Saja Muhibbe Rasool

 

हज़्मे अह़ज़ाबे नदवा का सेहरा

तेरे माथे रहा मुह़िब्बे रसूल

Hazme Ahzaabe Nadwa Ka Sehra

Tere Maathe Raha Muhibbe Rasool

 

रफ़्ज़ो तफ़्ज़ीलो नज्दियत का गला

तेरे हाथों कटा मुह़िब्बे रसूल

Rafzo Tafzeelo Najdiyat Ka Gala

Tere Haaton Kata Muhibbe Rasool

 

तूने अब्नाए बद मज़ाक़ी को

पै पिदर कर दिया मुह़िब्बे रसूल

Tone Abnaaye Bud Mazaaqi Ko

Pai Pidar Kar Diya Muhibbe Rasool

 

मातमी हैं ज़नाने नज्द की हाए

बेवा तूने किया मुह़िब्बे रसूल

Matmi Hein Zanane Najd Ki Haaye

Bewa Tune Kiya Muhibbe Rasool

 

जलते हैं नदविया कि सद्र की क़द्र

सर्द की तूने या मुह़िब्बे रसूल

Jalte Hein Nadwiya Ki Sadr Ki Qadr

Sard Ki Tone Ya Muhibbe Rasool

 

सर मुंडाते ही पड़ गये ओले

तुझ से पाला पड़ा मुह़िब्बे रसूल

Sar Mundaate He Pad Gaye O-Ley

Tujh Se Paala Pada Muhibbe Rasool

 

बख़्त खुल जाता तख़्त मिल जाता

तूने बन्दी रखा मुह़िब्बे रसूल

Bakht Khul Jata Takht Mil Jaata

Tu ne Bandi Rakha Muhibbe Rasool

 

म-क-रु मक-र-हुम इन्दल्लाह

मक-रो-हुम वल जज़ा मुह़िब्बे रसूल

Ma-Ka-Roo Mak-Ra-Hum Indallah

Mak-Ro-Hum Wala Jaza Muhibbe Rasool

 

कोह अफ़्गन था उनका मक्र मगर

मक्रे ह़क़ था बड़ा मुह़िब्बे रसूल

Koh Afghan Tha Unka Makr Magar’

Makre Haq Tha Bada Muhibbe Rasool

 

पहले भी मक्रदारे नदवा को

ह़क़ ने दी सज़ा मुह़िब्बे रसूल

Pahle Bhi Makr-daare Nadwa Ko

Haq Ne Di Saza Muhibbe Rasool

 

बा’द तेरह सदी के फिर उछला

अब वोह तुझ से दबा मुह़िब्बे रसूल

Baad Terh(13) Sadi Ke Fir Uchhla

Ab Woh Tujh Se Daba Muhibbe Rasool

 

उनकी जो रुएदाद थी कर दी

तूने दम में हबा मुह़िब्बे रसूल

Unki Jo Rooyedaad Thi Kar Di

Tu ne Dum Me Haba Muhibbe Rasool

 

ज़र के मुफ़्ती बना करें मुख़्ती

तू है मुफ़्ती बजा मुह़िब्बे रसूल

Zar Ke Mufti Bana Karen Mukhti

Tu Hai Mufti Baja Muhibbe Rasool

 

नाज़िमें फ़ितना लाख हों तू है

नाज़िमें इहतिदा मुह़िब्बे रसूल

Naazim-E-Fitna Lakh Hon Tu Hai

Naazim-E-Ihtida Muhibbe Rasool

 

झूटे ह़क़्क़ानी बनते हैं गुमराह

सच्चे ह़क़्क़ानी आ मुह़िब्बे रसूल

Jhoote Haqqani Bante Hein Gumraah

Sachche Haqqani Aa Muhibbe Rasool

 

कुछ मुदाहिन ह़मीर मीर बने

मीर उनको सुना मुह़िब्बे रसूल

Kuch Mudahin Hameer Meer Bane

Meer Unko Suna Muhibbe Rasool

 

यूं न समझें तो सर उड़ा या आप

तू दिल उनका उड़ा मुह़िब्बे रसूल

Yun Na Samjhe To Sar Uda Ya Aap

Tu Dil Unka Uda Muhibbe Rasool

 

नदवी झुंझलाते हैं वोही तो हैं

असद अह़मद रज़ा मुह़िब्बे रसूल

Nadwi Jhunjhlate Hein Wohi To Hien

Asad Ahmad Raza Muhibbe Rasool

 

ग़ाफ़िल इससे कि एक सुन्नी है

फ़ौजे ह़क़ में हूं या मुह़िब्बे रसूल

Ghafil Isse Ki Ek Sunni Hai

Fouje Haq Me Hoon Ya Muhibbe Rasool

 

गल्लए बुज़ को एक शीर बहुत

वोह भी ला सीय्यमा मुह़िब्बे रसूल

Galla-E-Buz Ko Ek Sheer Bahut

Woh Bhi Laa Siyyama Muhibbe Rasool

 

हम बा जामेअ़ रमा रमद अज़ शेर

लुत्फ़ दे जुम्आ रा मुह़िब्बे रसूल

Ham Ba Jaame’aa Rama Ramad Az Sher

Lutf De Jum’aa Ra Muhibbe Rasool

 

मेरे सत्तर सुवाल का क़र्ज़ा

न अदा हो सका मुह़िब्बे रसूल

Mere Sattar Suwaal Ka Qarza

Na Ada Ho Saka Muhibbe Rasool

 

न अदा हो अगर्चे मह़शर तक

ढील उन्हें दे मुह़िब्बे रसूल

Na Ada Ho Agrche Mahshar Tak

Dheel Unhe De Muhibbe Rasool

 

बीसों ए’लानो पर भी हट न सका

घूंघट उन मुखड़ों का मुह़िब्बे रसूल

Beeso Ailaano Par Bhi Hat Na Saka

Ghoonghat Un Mukhdon Ka Muhibbe Rasool

 

शर्में नौ ख़ास्तन रही ह़ाइल

नदवे को ह़सरता मुह़िब्बे रसूल

Sharm-E-Nou Khaastan Rahi Ha’il

Nadwe Ko Hasrata Muhibbe Rasool

 

ह़ाल मुस्तन फि़रह का क़सवरह से

सब ने देखा सुना मुह़िब्बे रसूल

Haal Mustan Firah Ka Qaswarh Se

Sub Ne Dekha Suna Muhibbe Rasool

 

मेरे ख़न्ज़र की ताब ला न सके

ख़ाक पहुंचेंगे ता मुह़िब्बे रसूल

Mere Khanzar Ki Taab Laa Na Sake

Khaak Pahunchege Ta Muhibbe Rasool

 

गालियां दीं जवाब के बदले

ज़ा ह़य्यलना मुह़िब्बे रसूल

Gaaliyan Di Jawaab Ke Badle

Zaa Hayylna Muhibbe Rasool

 

शोला ख़ूयों को छेड़ कर सुनना

यां है इसका मज़ा मुह़िब्बे रसूल

Shola Khooyon Ko Chhed Kar Sunna

Yan Hai Iska Maza Muhibbe Rasool

 

तल्ख़ ज़ैबद लब श-करेख़ा रा

ख़्वाजा फ़रमा चुका मुह़िब्बे रसूल

Tulkh Zaibad La Sha-krekha Ra

Khwaja Fama Chuka Muhibbe Rasool

 

हां न इन दो का तीसरा देखा

आंखें खुलतीं ज़रा मुह़िब्बे रसूल

Han Na In Do Ka Teesra Dekha

Aankhe Khulti Zara Muhibbe Rasool

 

तीसरा कौन ओ़ने ह़क़ जिसका

मैं फ़क़ीर और गदा मुह़िब्बे रसूल

Teesra Koun Ouney Haq Jiska

Mein Faqeer Aur Gada Muhibbe Rasool

 

तीसरा कौन बदरे ह़क़ जिसका

शर्क़ मैं और समा मुह़िब्बे रसूल

Teesra Koun Badre Haq Jiska

Sharq Mien Aur Sama Muhibbe Rasool

 

तीसरा कौन मेहरे ह़क़ जिसका

नुक़्ता मैं मिन्तक़ा मुह़िब्बे रसूल

Teesra Koun Mehre Haq Jiska

Nuqta Mein Mintqa Muhibbe Rasool

 

साया इन दो पे कैसे दो का है

जिन का सालिस खुदा मुह़िब्बे रसूल

Saaya In Do Pe Kaisa Do Ka Hai

Jin Ka Saalis Khuda Muhibbe Rasool

 

स़ानियस नैने इज़ हुमा फ़िल गार

मैं निसार और फ़िदा मुह़िब्बे रसूल

Saaniyas Naine Iz Huma Fil Gaar

Mein Nisaar Aur Fida Muhibbe Rasool

 

बल्कि दो अह़वली से कहते हैं

मैं हूं तुझ में फ़ना मुह़िब्बे रसूल

Balki Do Ahwali Se Kahte Hein

Mein Hoon Tujh Me Fana Muhibbe Rasool

 

न तू मुझसे जुदा न मैं तुझ से

मैं तेरा तू मेरा मुह़िब्बे रसूल

Na Tu Mujhse Juda Na Mein Tujh Se

Mein Tera Tu Mera Muhibbe Rasool

 

ग़लत़ी की तेरा मेरा कैसा !

तू मनो मन तू या मुह़िब्बे रसूल

Ghalti Ki Tera Mera Kaisa !

Tu Mano Mann Tu Ya Muhibbe Rasool

 

यह भी तेरे करम से है वरना

मन कुजा व कुजा मुह़िब्बे रसूल

Yeh Bhi Tere Karam Se Hai Warna

Man Kuja Wa Kuja Muhibbe Rasool

 

मैं कहां और कहां तआ़लल्लाह

तेरी मदह़ो सना मुह़िब्बे रसूल

Mein Kaha Aur Kaha Ta’aa’lallah

Teri Madho Sana Muhibbe Rasool

 

Ey Imaamul Huda Muhibbe Rasool

 

तेरी नेमत का शुक्र क्या कीजे

तुझ से क्या क्या मिला मुह़िब्बे रसूल

Teri Nemat Ka Shukr Kya Keeje

Tujh Se Kya Kya Mila Muhibbe Rasool

 

और तो और शैख़ तुझ से मिला

इस से बढ़कर है क्या मुह़िब्बे रसूल

Aur To Aur Sheikh Tujh Se Mila

Is Se Badkar Hai Kya Muhibbe Rasool

 

शैख़ भी वोह कि जिसके दर की ख़ाक

चश्में जां की जिला मुह़िब्बे रसूल

Sheikh Bhi Woh Ki Jiske Dar Ki Khaak

Chashme Jaa(N) Jila Muhibbe Rasool

 

शैख़ भी वोह कि इक झलक में करे

शब को शम्सुद्दुहा मुह़िब्बे रसूल

Shaikh Bhi Woh Ki Ik Jhalak Me Kare

Shab Ko Shamsudduha Muhibbe Rasool

 

शैख़ भी वोह कि जिसकी एक निगाह

दो जहां का भला शैख़ मुह़िब्बे रसूल

Shaikh Bhi Woh Ki Jiski Ek Nigaah

Do Jahan Ka Bhala Sheikh Muhibbe Rasool

 

शैख़ भी वोह कि जिसके मुरजाई

औलिया अस्फि़या मुह़िब्बे रसूल

Shaikh Bhi Woh Ki Jiske Mur’jaai

Auliya Asfiya Muhibbe Rasool

 

Ey Imaamul Huda Muhibbe Rasool naat lyrics

 

शैख़ भी वोह कि फ़ितनों की है क़ज़ा

जिस की एक एक अदा मुह़िब्बे रसूल

Shaikh Bhi Woh Ki Fitnon Ki Hai Qaza

Jis Ki Ek Ek Ada Muhibbe Rasool

 

शैख़ भी वोह कि जिसके नाम का विर्द

दर्दे दिल की दवा मुह़िब्बे रसूल

Shaikh Bhi Woh Ki Jiske Naam Ka Wird

Darde Dil Ki Dawa Muhibbe Rasool

 

शैख़ भी वोहकि जिसके इ़श्क़ की आग

नार से है नजा मुह़िब्बे रसूल

Shaikh Bhi Woh Ki Jiske Ishq Ki Aag

Naar Se Hai Naja Muhibbe Rasool

 

शैख़ भी वोह कि ह़क़ के फूल खिलाए

जिस के दम की हवा मुह़िब्बे रसूल

Shaikh Bhi Woh Ki Haq Ke Phool Khilaaye

Jis Ke Dum Ki Hawa Muhibbe Rasool

 

शैख़ भी वोह कि जिसका आबे वुज़ू

बाग़े दीं की बहा मुह़िब्बे रसूल

Shaikh Bhi Woh Ki Jiska Aabe Wuzu

Baaghe Di Ki Baha Muhibbe Rasool

 

शैख़ भी वोह कि ख़ाके पा से करे

मस्से जां को त़िला मुह़िब्बे रसूल

Shaikh Bhi Woh Ki Khaake Pa Se Kare

Masse Jaan Ko Tila Muhibbe Rasool

 

शैख़ भी कौन ह़ज़रत आले रसूल

ख़ातमुल औलिया मुह़िब्बे रसूल

Sheikh Bhi Koun Hazrat Aale Rasool

Khaatmul Auliya Muhibbe Rasool

 

उस के दर तक रसाई तुझसे मिली

तू हुआ रहनुमा मुह़िब्बे रसूल

Us Ke Dar Tak Rasaai Tujhse Mili

Tu Hua Rahnuma Muhibbe Rasool

 

Ey Imaamul Huda Muhibbe Rasool

 

मुह पे वाजिब है तेरा शुक्रे निअ़म

मुझ पे लाज़िम दुआ मुह़िब्बे रसूल

Muh Pe Waajib Hai Tera Shukre Niaam

Mujh Pe Laazim Dua Muhibbe Rasool

 

जग भगाते चराग़ सुन्नत के

ता अबद जगमगा मुह़िब्बे रसूल

Jag Bhagate Charagh Sunnat Ke

Ta Abad Jagmaga Muhibbe Rasool

 

न कभी बादे ह़ादिसा पास आए

न कभी झिलमिला मुह़िब्बे रसूल

Na Kabhi Baade Haadisa Paas Aaye

Na Kabhi Jhilmila Muhibbe Rasool

 

दाइमा तेरी नस्ले रोशन में

शम्अ़ हो शम्अ़ ज़ा मुह़िब्बे रसूल

Daaima Teri Nasle Roshan Me

Sham’aa Ho Sham’aa Zaa Muhibbe Rasool

 

Ey Imaamul Huda Muhibbe Rasool naat lyrics

 

रहे ता रोज़े नूरो हुम यसआ़

रोज़ अफ़ज़ूं ज़िया मुह़िब्बे रसूल

Rahe Ta Roze Noor-O-Huma Yas’aa

Roz Afzoon Ziya Muhibbe Rasool

 

मुक़्तदिर तेरे नौ बरों को करें

तुझ से भी कुछ सिवा मुह़िब्बे रसूल

Muqtadir Tere Nou Baron Ko Karen

Tujh Se Bhi Kuchh Siwa Muhibbe Rasool

 

तेरे साए में लहलहाएं खिलें

तेरे गुल गुलबुना मुह़िब्बे रसूल

Tere Saaye Me Lahlahaye Khilen

Tere Gul Gulbuna Muhibbe Rasool

 

मूरिसे मज्दो फ़ज़्ले आबा हो

वारिसुल अम्बिया मुह़िब्बे रसूल

Moorise Majdo Fazle Aaba Ho

Waarisul Ambiya Muhibbe Rasool

 

ख़ारे दर चश्मों ख़्वार दर चश्मां

दुश्मनत दाइमा मुह़िब्बे रसूल

Khaare Dar Chashmon Khwar Dar Chashma

Dushmanat Daaima Muhibbe Rasool

 

तुझ पे फ़ज़्ले रसूल का साया

मुझ पे साया तेरा मुह़िब्बे रसूल

Tujh Pe Fazle Rasool Ka Saaya

Mujh Pe Saaya Tera Muhibbe Rasool

 

मेरा शाफ़ेअ़ हुज़ूर ग़ौस में हूं

मद्ह का दे सिला मुह़िब्बे रसूल

Mera Shafe’aa Huzoor Ghous Me Hun

Madha Ka De Sila Muhibbe Rasool

 

मुद्दई से मुझे बचा ले ग़ौस

दिल का दें मुद्दआ़ मुह़िब्बे रसूल

Muddai Se Mujhe Bacha Le Ghous

Dil Ka Den Mudd’aa Muhibbe Rasool

 

मेरे सब काम इनसे बनवा दे

ज़ाहिरा बात़िना मुह़िब्बे रसूल

Mere Sub Kaam Inse Banwa De

Zaahira Baatina Muhibbe Rasool

 

मुझे कर दे रिज़ाए अह़मद वोह

जिस ने तुझ को किया मुह़िब्बे रसूल

Mujhe Kar De Rizaaye Ahmad Woh

Jis Ne Tujh Ko Kiya Muhibbe Rasool

 

आह सद आह मैं हूं बिअ्सल अब्द

मदद ऐ हब्बज़ा मुह़िब्बे रसूल

Aah Sud Aah Mein Hoon Bi’asal Abd

Madad Ey Habbza Muhibbe Rasool

 

बिअ्सा को नेअ़मा से बदलवा दे

अपने मौला से या मुह़िब्बे रसूल

Bi’asa Ko Ne’ama Se Badalwa De

Apne Moula Se Ya Muhibbe Rasool

 

कौन मौला वोह सय्यिदुल अफ़राद

ग़ौसे हर दो सरा मुह़िब्बे रसूल

Koun Moula Woh Saiyadul Afraad

Ghouse Har Do Sara Muhibbe Rasool

 

मैं भी देखूं जो तूने देखा है

रोज़े सअ्ये सफ़ा मुह़िब्बे रसूल

Mein Bhi Dekhoo Jo Toone Dekha Hai

Roze Saya-E-Safa Muhibbe Rasool

 

हां यह सच है कि यां वोह आंख कहां

आंख पहले दिला मुह़िब्बे रसूल

Haan Yeh Sach Hai Ki Ya(N) Woh Aankh Kahan

Aankh Pahle Dila Muhibbe Rasool

 

तीनो भाई न कोई ग़म देखें

इ़श्क़े शह के सिवा मुह़िब्बे रसूल

Teeno Bhai Na Koi Gham Dekhen

Ishqe Shah Se Siwa Muhibbe Rasool

 

मेरे बेटों भतीजों को भी हो

इ़ल्में शाफ़ेअ़ अ़त़ा मुह़िब्बे रसूल

Mere Bête Bhatijon Ko Bhi Ho

Ilme(n) Shafe-Aa Ata Muhibbe Rasool

 

दीनो दुनिया की इ़ज़्ज़तें पाए

रद रहे हर बला मुह़िब्बे रसूल

Deeno Duniya Ki Izzate Paaye

Rad Rahe Har Bala Muhibbe Rasool

 

ख़ातिमा सब का दीने ह़क़ पे करे

कल्मए तय्यिबा मुह़िब्बे रसूल

Khatima Sub Ka Deene Haq Pe Kare

Kalma-E-Taiyaba Muhibbe Rasool

 

खुल्द में ज़ेरे ज़िल्ले ग़ौसे करीम

रहें यक जा रज़ा मुह़िब्बे रसूल

Khuld Me Zere Zille Ghouse Karim

Rahen Yak Ja RAZA Muhibbe Rasool

By sulta