Dekhun Main Chalte Phirte Rasool E Karim Ko Lyrics

 

 

देखूं मैं चलते फ़िरते रसूले करीम को

 

Ishqe Owais o Jazwa E Bu-Zar Bhi Daal De

Daman Me Ya Rab Unka Muqaddar Bhi Daal De

 

Dekhun Main Chalte Phirte Rasool E Karim Ko

Aankhon Me Sadiyon Qabl Ke Manzar Bhi Daal De

 

Kya Kuchh Nahin Hai Rouza O Mimber Ke Darmiya

Rouza Bhi Dil Me Daal De Mimber Bhi Daal De

 

Maidan E Hashr Tak Hi Bujhaani Hai Tashnagi

Sagar Me Apne Tu Meri Gaagar Bhi Daal De

 

Boseer Ko Udaayi Thi Jo Tune Khwaab Me

Wo Chadar E Shifa Mere Upar Bhi Daal De

 

Mere Pyale Me Mere Allah Ke Habib

Apni Mohabbaton Ka Samandar Bhi Daal Den

 

Jaye Jo Ab Ke Laut Ke Aana Na Ho Naseeb

Dera Tere Qareeb Muzaffar Bhi Daal De

 

Naat Khwan: Muhammad Ali Faizi

 

Dekhun Main Chalte Phirte Rasool E Karim Ko Lyrics Hindi
इश्क़े उवैस ओ जज़्बा-ए-बू-ज़र भी डाल दे

दामन में या रब उनका मुक़द्दर भी डाल दे

 

देखूं मैं चलते फ़िरते रसूले करीम को

आंखों में सदियों क़ब्ल के मन्ज़र भी डाल दे

 

क्या कुछ नहीं है रौज़ा-ओ-मिम्बर के दरमियां

रौज़ा भी दिल में डाल दे, मिम्बर भी डाल दे

 

मैदाने हश्र तक ही बुझानी है तिश्नगी

सागर में अपने तू मेरी गागर भी डाल दे

 

बोसीर को उड़ाई थी जो तूने ख्वाब में

वो चादर-ए-शिफ़ा मेरे ऊपर भी डाल दे

 

मेरे प्याले में मेरे अल्लाह के हबीब

अपनी मोहब्बतों का समन्दर भी डाल दे

 

जाए जो अब के लौट के आना ना हो नसीब

डेरा तेरे क़रीब मुज़फ़्फ़र भी डाल दे

By sulta