Deewan E Ishqe Ahmad Ko Zanjeeren Sajda Karti Hein Lyrics

 

Shayar: Qamar Sulemani | Naat e Paak

 

दीवानए इश्के़ अहमद को ज़न्जीरें सज्दा करती हैं

बेदार मुक़द्दर वालों को तक़दीरें सज्दा करती हैं

Deewan E Ishqe Ahmad Ko Zanjeeren Sajda Karti Hein

Bedaar Muqaddar Waalon Ko Taqdeeren Sajda Karti Hein

 

 

मीलादे नबी का दिन आया, तौहीद का परचम लहराया

ऐ सल्ले अ़ला बुतख़ानों में तस्वीरें सज्दा करती हैं

Meelade Nabi Ka Din Aaya, Touheed Ka Parcham Lahraaya

Ey Salle Ala Butkhano(N) Me Tasveere(N) Sajda Karti Hein

 

 

किसरा का मकां क़ैसर का महल माइल बज़मीं है सर के बल

बुनियादे दो आ़लम आते हैं तामीरें सज्दा करती हैं

Kisra Ka Makaa(N) Qaisar Ka Mahal Maa’il Bazmi Hai Sar Ke Bal

Buniyaade Do Aalam Aate Hein Taameere(N) Sajda Karti Hein

 

 

अल्लाह रे कलाम उस उम्मी का हर लफ़्ज़ मुकम्मल जुमला है

सहबाए ज़माना शश्दर हैं तक़रीरें सज्दा करती हैं

Allah Re Kalaam Us Ummi Ka Har Lafz Mukammal Jumla Hai

Sah’ba-E-Zamaana Shashdar Hein Taqdeere(N) Sajda Karti Hein

 

 

हसनैन सिफ़त जो बन के रहे हर जु़ल्म सहे और उफ़ न करे

उस मर्दे मुजाहिद के आगे शम्शीरें सज्दा करती हैं

Hasnain Sifat Jo Ban Ke Rahe Har Julm Sahe Aur Uff Na Kare

Us Marde Mujahid Ke Aage Shamsheerein Sajda Karti Hein

By sulta