Dar Tumhara Mil Gaya Naat Lyrics

 

Dar Tumhara Mil Gaya Naat Lyrics | दर तुम्हारा मिल गया

 

आसियों को दर तुम्हारा मिल गया
बे ठिकानों को ठिकाना मिल गया

Aasiyon Ko Dar Tumhara Mil Gaya
Be-Thikano Ko Thikana Mila Gaya

 

फ़ज़्ले रब से फिर कमी किस बात की
मिल गया सब कुछ जो तैबा मिल गया

Fazle Rab Se Phir Kami Kis Baat Ki
Mil Gaya Sab Kuchh Jo Taiba Mil Gaya

 

कश्फ़े राज़े मन रआनी फिर यूँ हुआ
तुम मिले तो हक़ तआ़ला मिल गया

Kashfe Raaz e Man Ra’aani Phir Yun Hua
Tum Mile To Haq Ta’aala Mil Gaya

 

बेखुदी है बाइसे कश्फ़े ह़िजाब
मिल गया मिलने का रास्ता मिल गया

BeKhudi Hai Baa’is e Kashfe Hijaab
Mil Gaya Milne Ka Raasta Mil Gaya

 

ना ख़ुदाई के लिए आये हुज़ूर
डूबतों को भी सहारा मिल गया

Na Khudaai Ke Liye Aaye Huzoor
Doobton Ko Bhi Sahara Mil Gaya

 

दोनों आ़लम से मुझे क्यूँ खो दिया
नफ़्से ख़ुद मतलब तुझे क्या मिल गया

Dono Aalam Se Mujhe Kyon Kho Diya
Nafse Khud Matlab, Tujhe Kya Mila Gaya

 

आंखें पुर नम हो गई सर झुक गया
जब से तेरा नक़्शे कफ़े पा मिल गया

Aankhein Purnam Ho Gaai Sar Jhuk Gaya
Jab Se Tera Naqshe Kafe Pa Mil Gaya

 

ख़ुल्द कैसा, क्या चमन, किसका वतन
मुझको सहराए मदीना मिल गया

Khuld Kaisa, Kya Chaman, Kiska Watan
Mjhko Sahraaye Madina Mil Gaya

 

उनके तालिब ने जो चाहा पा लिया
उनके साइल ने जो मांगा मिल गया

Unke Taalib Ne Jo Chaha Paa Liya
Unke Saa’il Ne Jo Maanga Mil Gaya

 

तेरे दर के टुकड़े हैं और मैं ग़रीब
मुझको रोज़ी का ठिकाना मिल गया

Tere Dar Ke Tukde Hain Aur Mai Gharib
Mjhko Rozi Ka Thikana Mil Gaya

 

ऐ हसन फ़िरदौस में जाएं जनाब
हमको सहराए मदीना मिल गया

Ay Hasan Firdous Me Jayen Janab
Hamko Sahraaye Madina Mil Gaya

By sulta