Chehry Khiley Khiley Hain Lyrics

 

Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain

Roushan Hai Sab Ka Seena
Aisa Banaya Rab Ne Ramzan Ka Mahina

Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain

 

Charon Taraf Baharen Ghar-Ghar Me Rounaken Hain
Waqte Taraabi Dekho Awaad Masjiden Hain

Naaten Padho Nabi Ki Karo Mahfil-e-Shabeena

Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain

 

Roushan Hai Sab Ka Seena
Aisa Banaya Rab Ne Ramzan Ka Mahina

 

Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain

 

Utho Jaldi Momin-o-Tum Karo Sahar Ki Tayyari
Qurba.n Karo Khuda Par Neend Apni Pyari-Pyari

Naam Uska Zindagi Hai Kahte Hain Isko Jeena

Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain

 

Roushan Hai Sab Ka Seena
Aisa Banaya Rab Ne Ramzan Ka Mahina

More Ramzan Related Naats
Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain

 

Ji Bhar Ke Loot Rahmat Ramzan Ki Hain Ghadiyan
Maangen Khuda Se Bakhshish Ramzan Ki Hain Ghadiyan

Fir Ayega Na Hathon Anmol Ye Nagina

Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain

 

Roushan Hai Sab Ka Seena
Aisa Banaya Rab Ne Ramzan Ka Mahina

Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain

 

Taiba Se Door Rahkar Duniya Me Jeena Kya Hai

Aijaz Meri Rooti Aankhon se Ye Dua Hai

 

Allah Hamen Dekhaye Isi Maah Me Madina
Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain

 

Roushan Hai Sab Ka Seena
Aisa Banaya Rab Ne Ramzan Ka Mahina

 

Chehrey khile khile hain
Chehrey khile khile hain
Chehry khiley khiley hain
Chehry khiley khiley hain

 

चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं

 

रौशन है सब का सीना
ऐसा बनाया रब ने रमज़ान का महीना

चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं

 

चारों त़रफ़ बहारें घर-घर में रौनकें हैं
वक़्त-ए-तराबी देखो आवाद मस्जिदें हैं

नातें पढ़ो नबी की करो महफ़िले शबीना

 

चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं

 

रौशन है सब का सीना
ऐसा बनाया रब ने रमज़ान का महीना

चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं

 

उठो जल्दी मोमिन-ओ-तुम करो सहर की तय्यारी
क़ुर्बां करो ख़ुदा पर नींद अपनी प्यारी प्यारी

नाम उसका ज़िंदगी है कहते हैं इसको जीना

चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं

More Ramzan Related Naats
रौशन है सब का सीना
ऐसा बनाया रब ने रमज़ान का महीना

चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं

 

जी भर के लूट रह़मत रमज़ान की हैं घड़ियां
मांगें ख़ुदा से बख़्शिश रमज़ान की हैं घड़ियां

फिर आयेगा ना हाथों अनमोल ये नगीना

चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं

 

रौशन है सब का सीना
ऐसा बनाया रब ने रमज़ान का महीना

चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं

 

तैबा से दूर रहकर दुनिया में जीना क्या है
ऐज़ाज़ मेरी रोती आंखों से ये दुआ है

अल्लाह हमें दिखाये इसी माह में मदीना

चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे खिले खिले हैं

 

रौशन है सब का सीना
ऐसा बनाया रब ने रमज़ान का महीना

चेहरे खिले खिले हैं
चेहरे ख़िले ख़िले हैं
चेहरे ख़िले ख़िले हैं
चेहरे ख़िले ख़िले हैं

By sulta