Chand Hai Hairat Me Muh Takta Hai Tara Ghous Ka Lyrics

 

Shayar: Allama Ghulam Mustafa

 

चांद है हैरत में मुंह तकता है तारा ग़ौस का

हो गई रौशन फ़ज़ा चमका जो मुखड़ा ग़ौस का

Chand Hai Hairat Me Muh Takta Hai Tara Ghous Ka

Ho Gai Roushan Faza Chamke Jo Mukhda Ghous Ka

 

हर नज़र कश्कोल,एक एक सांस दामाने सवाल

ऐ खुदा बन्दे को दे दे कुछ तो सदक़ा ग़ौस का

Har Nazr Kashkol, Ek Ek Saans Daamaane Sawaal

Ey Khuda Bande Ko De De Kuch To Sadqa Ghous Ka

 

ज़ुल्फ़े असवद रुए अनवर के ज़रा एजाज़ देख

शब है बांदी ग़ौस की और दिन है बुर्दा ग़ौस का

Zulfe Aswad Roo-E-Anwar Ke Zara Aijaaz Dekh

Shab Hai Baandi Ghous Ki Aur Din Hai Burda Ghous Ka

 

हट भी जा जन्नत के दर से नाम ऐ रिज़वाँ न पूछ

नात लेवा ग़ौस का हूं नात लेवा ग़ौस का

Hat Bhi Jaa Jannat Ke Dar Se Naam Ey Rizwaa(N) Na Poochh

Naat Lewa Ghous Ka Hoon Naat Lewa Ghous Ka

 

कूचए उल्फ़त में क्यों डगने लगे मेरे क़दम

मैं नहीं मन्सूर हां शैदा हूं शैदा ग़ौस का

Kooch-E-Ulfat Me Kyon Dagney Lagey Mere Qadam

Mein Nahi Mansoor Haan Shaida Hoon Shaida Ghous Ka

 

शायरी मेरी है हज़रत आईना दारे जमाल

यानी एक एक शेअ़र में रक़सां है जलवा ग़ौस का

Shayari Meri Hai Hazrat Aaina Daare Jamaal

Yaani Ek Ek She’ar Me Raqsaa(N) Hai Jalwa Ghous Ka

By sulta