Bujh Jaate Hain Kaise Kaise Taqat Aur Quwwat Ke Charagh Lyrics

 

बुझ जाते हैं कैसे कैसे ताक़त और क़ुव्वत के चराग़
मिल जाती हैं कैसी कैसी शक्ल ओ सबाहत मिट्टी में
Bujh Jaate Hain Kaise Kaise Taqat Aur Quwwat Ke Charagh
Mil Jati Hain Kaisi Kaisi Shakl o Sabahat Mitti Me

 

उसकी मर्ज़ी हो तो इक दम नामे ज़माना हो मशहूर
वो चाहे तो पल में मिला दे सारी शोहरत मिट्टी में
Uski Marzi Ho To Ik Dam Name Zamana Ho Mashhoor
Wo Chahe To Pal Me Mila De Sari Shohrat Mitti Me

 

फेर के मुंह चल देंगें उस दम सारे अजीज़ ओ रिश्तेदार
जब रख दी जायेगी साहिब आपकी मईय्यत मिट्टी में
Pher Ke Muh Chal Dendege Us Dam Sare Jaiz o Rishtedar
Jab Rakh Di Jayegi Sahib Aapki Maiyyat Mitti Me

 

आ जाता है जब इन्सान के दिल के अन्दर किब्र ओ रेया
मिल जाती है सारी रियाज़त सारी इबादत मिट्टी में
Aa Jati Hai Jab Insan Ke Dil Ke Andar Kibr O Reya
Mil Jati Hai Sari Riyazat Sari Ibaadat Mitti Me

 

मोहताज़ों के काम ना आया जब कानून का मालो ज़र
आख़िर इक दिन रब ने मिला दी सारी दौलत मिट्टी में
Mohtazon Ke Kaam Na Aaya Jab Kanoon Ka Malo Zar
Aakhir Ik Din Rab Ne Mila Di Sari Doulat Mitti

 

ताबिश दुनिया के चक्कर में उकबा मत बर्बाद करो
साथ अपने ले जाओगे क्या मालो दौलत मिट्टी में
Tabish Duniya Ke Chakkar Me Ukba Mat Barbad Karo
Sath Apne Le Jaoge Kya Malo Doulat Mitti Me

By sulta