Basi Hai Jab Se Woh Tasveer-E-Yaar Aankhon Me Naat Lyrics

 

 

बसी है जब से वोह तस्वीरे यार आंखों में

Shayar: Sayyad Nazmi Miyan | Naat e Paak

Naat Khwan: Jamshed Sahil Barelvi,

 

बसी है जब से वोह तस्वीरे यार आंखों में

सिमट सी आई है फ़स्ले बहार आंखों में

Basi Hai Jab Se Woh Tasveer-E-Yaar Aankhon Me

Simat Si Aai Hai Fasle Bahar Aankhon Me

 

ज़मीने त़यबा की मिट्टी बने मेरा सुर्मा

रहे हमेशा नबी का दयार आंखों में

Zameen-E-Taiba Ki Mitti Bane Mera Surma

Rahe Hamesha Nabi Ka Dayaar Aankhon Me

 

मेरी निगाहें सरे अ़र्श जा के ठहरेंगी

मलूं जो नअ़ले नबी बार बार आंखों में

Meri Nigahein Sare Arsh Ja Ke Thahrengi

Maloo(N) Jo Naal-e-Nabi Bar Bar Aankhon Me

 

वह ला-मकां के मुसाफि़र बने शबे असरा

खुदा के जल्वे समाये हज़ार आंखों में

Wah La-maka(N) Me Musafir Bane Shabe Asra

Khuda Ke Jalwe Samaye Hazar Aankhon Me

 

ऐ हाजियो ज़रा रुकना मैं चूम लूं तुमको

तुम्हारे क़दमों का मल लूं ग़ुबार आंखों में

Ey Haajio Zara Rukna Mein Choom Loon Tumko

Tumhare Qadmon Ka Mal-Loon Ghubar Ankhon Me

 

तेरे क़लम को रज़ा की रज़ा मिली नज़मी

तभी ज़बां में असर है निखार आंखों में

Tere Qalam Ko Raza Ki Raza Mili Nazmi

Tabhi Zaba(n) Me Asar Hai Nikhar Ankhon Me

By sulta