Bakht-e-Khufta Ne Mujhe Roze Pe Jaane Na Diya – Hindi Lyrics

बख़्त-ए-ख़ुफ़्ता ने मुझे रोज़े पे जाने न दिया / Bakht-e-Khufta Ne Mujhe Roze Pe Jaane Na Diya

बख़्त-ए-ख़ुफ़्ता ने मुझे रोज़े पे जाने न दिया
चश्म-ओ-दिल सीने कलेजे से लगाने न दिया
आह क़िस्मत ! मुझे दुनिया के ग़मों ने रोका
हाए तक़दीर ! के तयबा मुझे जाने न दिया
पाँव थक जाते अगर, पाँव बनाता सर को
सर के बल जाता मगर ज़ोअ’फ़ ने जाने न दिया
सर तो सर जान से जाने की मुझे हसरत है
मौत ने हाए ! मुझे जान से जाने न दिया
हाल-ए-दिल खोल के दिल आह ! अदा कर न सका
इतना मौक़ा ही मुझे मेरी क़ज़ा ने न दिया
मेरे आ’माल का बदला तो जहन्नम ही था
मैं तो जाता मुझे सरकार ने जाने न दिया
मेरे आ’माल-ए-सियाह ने किया जीना दूभर
ज़हर खाता, तेरे इर्शाद ने खाने न दिया
और चमकती सी ग़ज़ल कोई पढ़ो, ए नूरी !
रंग अपना अभी जमने शोअ’रा ने न दिया

By sulta