Allah Allah Zaat E Mustafa Kis Kadar Lyrics

 

Allah Allah Zaat E Mustafa Kis Kadar Buland Shan Hai

Jis Pe Unke Paon Pad Gaye Wo Zameen Aasman Hai

अल्लाह अल्लाह ज़ात-ए-मुस्तफ़ा किस कदर बुलन्द शान है

जिस पे उनके पांव पड़ गए वो ज़मीन आसमान है

 

Apni Aakhirat Ke Waste Kyon Kisi Ke Haath Par Bikein

Do Jahan Me Sabse Mot’bar Mustafa Ka Khandan Hai

अपनी आखिरत के वास्ते क्यूँ किसी के हाथ पर बिकें

दो जहां में सबसे मोतबर मुस्तफ़ा का खानदान है

 

Ilm Par Guroor Mat Karo Wo Khadib E Ilm E Ghaib Hain

Mere Mustafa Ke Samne Qaynaat Be-Zaban Hai

इ़ल्म पर गुरुर मत करो वो खदीब-ए-इ़ल्म-ए-ग़ैब हैं

मेरे मुस्तफ़ा के सामने कायनात बे-ज़ुबान है

 

Jinko Fakr E Paarsayi Hai Wo Kahan Rahenge Hashr Me

Daman E Habib E Kibriya Aasiyon Ka Saayeban Hai

जिनको फ़क्र-ए-पारसाई है वो कहां रहेंगे हश्र में

दामन-ए-हबीब-ए-किबरिया आसिओं का साहेबान है

 

Jab Gunahgar Rouza E Mustafa Ke Aas-Paas Hon

Aisa Lagta Hai Ke Zindagi Rahmaton Ke Darmiyan Hai

जब गुनाहगार रौज़ा-ज-मुस्तफ़ा के आस-पास हों

ऐसा लगता है के ज़िन्दगी रहमतों के दरमियान है

 

Unke Zikr E Paak Ke Liye Souday Baaziyan Na Kijiye

Aye Shakeel Unka Zikr To Qabr O Hashr Ki Amaan Hai

उनके ज़िक्र-ए-पाक के लिए सौदे बाज़ियां न कीजिए

ऐ शकील उनका ज़िक्र तो क़ब्र ओ ह़श्र की अमान है

 

Shayar & Naat Khwan: Shakeel Arfi

Allah Allah Zaat E Mustafa Kis Kadar Buland Shan Hai

By sulta