Aisa Koi Mehboob Hua Hai Na To Hoga Lyrics

 

 

Aisa koi mehboob hua hai na to hoga..
Aisa koi mehboob hua hai na to hoga..

 

Dil Pukara Mujhko Ik Noor-e Mujarrad Chaahiye

Shauq Bola Noor Ki Aur Naar Ki Zad Chaahiye

Aql Boli Naala o Fariyad Ki Had Chaahiye

Ishq Bola Jazwa e Mansoor o Sarmad Chaahiye

Aañkh Boli Mujhko Deedar e Muhammad Chaahiye

 

Aisa koyi mehboob hua hai na to hoga..
Aisa koyi mehboob hua hai na to hoga..

 

Apne Bandoñ Se Kiya Maalik Ne Ye Jis Dam Sawal

Ik Taraf Rahmat Hai Meri Ik Taraf Qahr o Jalal

Ik Taraf Hai Husn-e Yusuf Ik Taraf Duniya Ka Maal

Manglo Kya Chahiye Zahir Karo Apna Khayal

Saari Duniya Bol Uthi Humko Mohammed Chaahiye

 

Aisa koyi mehboob hua hai na to hoga..
Aisa koyi mehboob hua hai na to hoga..

 

Jab Jab Bhi Tasawwur Par Ghalib Darbar e Payambar Hota Hai

Allah Re Mere Peish-e Nazar Firdaus Ka Manzar Hota Hai

Jis Waqt Namaz-e Ulfat Se Imaan Munawwar Hota Hai

Naa’lain e Mohammad Ka Bosa Sajde Ke Barabar Hota Hai

 

Aisa Koyi Mahboob Hua Hai Na To Hoga
Aisa Koyi Mahboob Hua Hai Na To Hoga

 

Hazrat Umar Ke Daur-e Khilafat Ka Waaqaya
Suniye Huzoor Tumko Sunata Hun Main Zara
Bachcha Tha Ek Unka Haseeñ Aur Ladla

 

Hazrat Umar Ki Aankhon Ka Tara Tha Dil Ka Chain
Ek Roz Raste Mein Mile Aap Se Hussain

 

Bad Assalam Khelne Ka Mashwara Hua
Us Kamsini Meiñ Donoñ Ka Jab Saamna hua

 

Kuchh Khel Khelte Hue Uljhan Si Ho Gai
Ghusse Meiñ Laal Muh Hue Aapas Meiñ Tan Gayi

 

Bole Hussain Kis Tarah Tu Bad-Lagaam Hai
Maaloom Hai Tujhe Tu Hamara ghulaam hai

 

Bachche Ko Sun Ke Josh Mein Kuchh Na Rahi Khabar
Bola Ke Mera Baap Bhi Sultan Hai Umar

Main Badshah Ka Ladka Hun Tazim Meri Kar
Warna Maiñ Apne Baap Ko Dooñga Teri Khabar

 

Bole Husain Jao Abhi Baap Se Kaho
Tumko Qasam Hai Kahte Hue Mujhse Na Daro

 

Bachche Ne Ja Ke Baap Ko Qissa Suna Diya
Abba Hameñ Husain Ne Neecha Dikha Diya

Ghulaam kaha hai!

Abba Hameñ Husain Ne Neecha Dikha Diya

 

Bole Umar Ye Bete Se Tu Ja Ke Bolna
Jo Kuchh Kaha Hai Aapne Likh Dijiye Zara

 

Bacche Ne Phir Husain Ko Jakar Yahi Kaha Tumne Ghulam Jo Kaha Likh Dijiye Zara

 

Bole Hussain Ye Koi Mushkil Maqaam Hai !
Ham Likh Ke De Rahe Hain Tu Mera Ghulaam Hai

 

Bachche Ne Jake Baap Ko Tahreer Jab Ye Di
Hazrat Umar Ne Aakho Se Apne Vahiñ Mali

 

Bole Umar Ye Bete Se Maiñ Shaad Kaam Hun
Tu Cheez Kya Hai Maiñ Bhi To Unka Ghulaam Hooñ

 

Aisa Koyi Mahboob Hua Hai Na To Hoga..
Aisa Koyi Mahboob Hua Hai Na To Hoga..

 

Ali se Arz ki ik Shakhs ne iska Sabab kya hai
Ke Kalme mein Nabi Ke Naam ko Maabaad Rakha Hai

Khuda Ne Khud ko di Tarjeeh to fir yeh Ishq kaisa hai
Rakhe Mashook ko piche yeh kab Aashiq ka Sheva hai

 

Ali ne is tarah samjhaya use Gustaakh e Behad ko
Are nadan tu Samjha Nahin is Raaz e Wahdat ko

Khuda ne isliye rakha hai peechhe Naam e Ahmad ko
Ke Naa-paaki mein na le le koi Naam e Mohammad ko

Zubaañ dhul Jaaye pahle Naam Jab Allah ka nikle
Phir uske baad Mein kalma Rasulullah ka nikle

 

Aisa Koyi Mahboob Hua Hai Na To Hoga..
Aisa Koyi Mahboob Hua Hai Na To Hoga..

 

 

ऐसा कोई महबूब हुआ है न तो होगा लिरिक्स

 

ऐसा कोई महबूब हुआ है न तो होगा
ऐसा कोई महबूब हुआ है न तो होगा..

 

दिल पुकारा मुझको इक नूरे मुजर्रद चाहिए

शौक़ बोला नूर की और नार की ज़द चाहिए

अक़्ल बोली ना’ला ओ फ़रियाद की हद चाहिए

इश्क़ बोला जज़्बा ए मनसूर ओ सरमद चाहिए

आंख बोली मुझको दीदार ए मोहम्मद ﷺ चाहिए

 

ऐसा कोई मह़बूब हुआ है न तो होगा..
ऐसा कोई मह़बूब हुआ है न तो होगा..

 

अपने बंदों से किया मालिक ने ये जिस दम सवाल

इक तरफ़ रहमत है मेरी इक तरफ क़हर ओ जलाल

इक तरफ़ है हुस्न ए यूसुफ़ इक तरफ दुनिया का माल

मांग लो क्या चाहिए ज़ाहिर करो अपना ख़याल

सारी दुनिया बोलती हमको मोहम्मद ﷺ चाहिए

 

ऐसा कोई मह़बूब हुआ है न तो होगा..
ऐसा कोई मह़बूब हुआ है न तो होगा..

 

जब जब भी तसव्वुर पर ग़ालिब दरबारे पयंबर होता है
अल्लाह रे मेरे पेश ए नज़र फिरदौस का मंजर होता है

जिस वक़्त नमाज़ ए उल्फ़त से ईमान मुनव्वर होता है
ना’लैन ए मोहम्मद का बोसा सजदे के बराबर होता है

 

ऐसा कोई मह़बूब हुआ है न तो होगा..
ऐसा कोई मह़बूब हुआ है न तो होगा..

 

हज़रत उमर के दौरे ख़िलाफ़त का वाक़या
सुनिए हुज़ूर तुमको सुनाता हूं मैं ज़रा
बच्चा था एक उनका हसीं और लाडला

हजरत उमर की आंखों का तारा था दिल का चैन
एक रोज रास्ते में मिले आपसे हुसैन

बाद अस्सलाम खेलने का मशवरा हुआ
उस कमसिनी में दोनों का जब सामना हुआ

कुछ खेल खेलते हुए उलझन सी हो गई
ग़ुस्से में लाल हुए आपस में तन गई

बोले हुसैन किस तरह तू बद-लगाम है
मालूम है तुझे तू हमारा ग़ुलाम है!

 

बच्चे को सुन के जोश में कुछ ना रही ख़बर
बोला कि मेरा बाप भी सुल्तान है उमर।

मैं बादशह का लड़का हूं ताज़ीम मेरी कर
वर्ना मैं अपने बाप को दूंगा तेरी ख़बर।

 

बोले हुसैन जाओ अभी बाप से कहो
तुमको क़सम है कहते हुए मुझसे ना डरो

 

बच्चे ने जाके बाप को क़िस्सा सुना दिया
अब्बा हमें हुसैन ने नीचा दिखा दिया
ग़ुलाम कहां है !
अब्बा हमें हुसैन ने नीचा दिखा दिया

 

बोले उमर यह बेटे से तू जाके बोलना
जो कुछ कहा है आपने लिख दीजिए ज़रा

बच्चे ने फिर हुसैन को जाकर यही कहा
तुमने ग़ुलाम जो कहा लिख दीजिए ज़रा

बोले हुसैन ये कोई मुश्किल मक़ाम है
हम लिख कर दे रहे हैं तू मेरा ग़ुलाम है

 

बच्चे ने जाके बाप को तहरीर जब यह दी
हज़रत उमर ने आंखों से अपने वहीं मली

बोले उमर यह बेटे से मैं शादकाम हूं
तू चीज़ क्या है मैं भी तो उनका ग़ुलाम हूं

 

ऐसा कोई मह़बूब हुआ है न तो होगा..
ऐसा कोई मह़बूब हुआ है न तो होगा..

 

अली से अर्ज़ की एक शख़्स ने इसका सबब क्या है ?
के कलमे में नबी के नाम को माबाद रखा है

ख़ुदा ने ख़ुद को दी तरजिह तो फिर ये इश्क़ कैसा है
रखें माशूक को पीछे यह कब आशिक का शेवा है

 

अली ने इस तरह समझाया उस गुस्ताख़ ए बेहद को
अरे नादान! तू समझा नहीं है इस राज़ ए वहदत को

ख़ुदा ने इसलिए रखा है पीछे नाम ए अहमद को
के नापाकी में ना ले ले कोई नाम ए मोहम्मद को

ज़ुबां धुल जाए पहले नाम जब अल्लाह का निकले
फिर उसके बाद में कलमा रसूल अल्लाह का निकले

 

ऐसा कोई मह़बूब हुआ है न तो होगा..
ऐसा कोई मह़बूब हुआ है न तो होगा..

By sulta