Aaj Ashk Mere Naat Sunain To Ajab Kya Lyrics in Hindi

Aaj Ashk Mere Naat Sunain To Ajab Kya Lyrics in Hindi

आज अश्क मेरे नात सुनाए तो अजब किया
सुनकर वोह मुझे पास बुलाए तो अजब किया

उन पर तो गुनेहगार का सब हाल खूला है
उस पर भी वोह दामन में छुपाए तो अजब किया

मुंह ढानप के रखना रखना के गुनेहगार बहुत है
मय्यत को मेरी देखने आए तो अजब किया

ना जादे सफर हे ना कोई काम भले है
फीर भी हमें सरकार बुलाएं तो अजब किया

दीदार के काबिल तो कहां मेरी नजर हे
लेकीन वोह कभी ख्वाब में आए तो अजब किया

यह निस्बते शाहे मदनी और यह आंसू
मेहशर में एक गम से शोराए तो अजब किया

मै ऐसा खतावार हूं कुछ हद नही जिसकी
फीर भी मेरे एबो कि छुपाए तो अजब किया

पाबंदे नवा तो नही फरियाद की रस्में
आंसू ही मेरा हाल सुनाए तो अजब किया

हासिल जिन्हें आका की गुलामी का शरफ हे
ठोकर से वोह मुरदे को जिलाए तो अजब किया

वोह हसने दो आलम है अदीब उनके क़दम से
सहरा में अगर फुल खिलाएं अजब किया

 
Pul Say Utaro Rah Guzar Ko Khabar Na Ho  Lyrics
Pur Noor Hai Zamana Sub-he Shabe Wiladat  Lyrics
 
Qadam Qadam Pe Khuda Ki Madad Pohanchti Hai Lyrics
Qadri Astana Salamat Rahe Lyrics
Qalb Ko Uski Rooyat Ki Hain Aarzu Lyrics
Qalb Ko Uski Rooyat Ki Hain Aarzu Lyrics