Aa Aa Re Chiraiyan Naat Lyrics

 
Banke Rehmat Ka Ek Jhoka Saanso Ko Mehka,
Sarware Aalam Ke Rouze Ki Khushbu Lekar Aa,
Aa-Aa Re Chiraiya Aa-Aa Re Chiraiya Aa-Aa,
Aa-Aa Re Chiraiya Aa-Aa Re Chiraiya Aa-Aa,
Aaja Ishqe Nabi Ki Chirayi Door Se Na Tadpa
Aa-Aa Re Chiraiya Aa-Aa Re Chiraiya Aa-Aa,
Aa-Aa Re Chiraiya Aa-Aa Re Chiraiya Aa-Aa,
Kehna Salaame Ummat Pehle Fir Saara Dukhda Kehna,
Darde Udasi Mal Ke Paro Par Aaqa Ko Dikhla Dena,
Udta Hua Tu Hind Nagar Se Shehre Madina Ja,
Aa Aa Re Chiraiya Aa Aa Re Chiraiya Aa Aa,
Aa Aa Re Chiraiya Aa Aa Re Chiraiya Aa Aa,
Gam Se Hun Ranjoor Bahut Mai Tayba Se Hun Door Bahut,
Kehna Kamli Wale Se Mai Aaqa Hun Majboor Bahut,
Dukhiyari Ummat Ka Sandesha Tayba Lekar Ja,
Aa Aa Re Chiraiya Aa Aa Re Chiraiya Aa Aa,
Aa Aa Re Chiraiya Aa Aa Re Chiraiya Aa Aa,
Roz Farishte Jinke Dar Par Behre Salaami Aate Hain,
Jinke Gulamo’n Ki Thonkhar Se Murde Bhi Jee Jaate Hain,
Unse Kehna Leke Sunehri Jaali Ka Bosa,
Aa Aa Re Chiraiya Aa Aa Re Chiraiya Aa Aa,
Aa Aa Re Chiraiya Aa Aa Re Chiraiya Aa Aa,
Dar Dar Se Thukraye Hain Jaa’n Ki Baazi Lagaye Hain,
Aankh Dikhati Hai Ye Duniya Daste Zulm Ke Saaye Hain,
Dahshad Gard Zamana Kehke Karta Hai Ruswa,
Aa-Aa Re Chiraiya Aa-Aa Re Chiraiya Aa-Aa,
Aa-Aa Re Chiraiya Aa-Aa Re Chiraiya Aa-Aa,
Gaus Ke Dar Ka Keh Dena Ek Mangta Ro Ro Kehta Hai,
Kehna Ghut Ghut Ke Khwaja Ke Bharat Me Ye Rehta Hai,
Naam Hai Akmal Ranjo Alam Ka Lagta Hai Putla,
Aa-Aa Re Chiraiya Aa-Aa Re Chiraiya Aa-Aa,
Aa-Aa Re Chiraiya Aa-Aa Re Chiraiya Aa-Aa,
Related- Jaan Ki Deewar Gira De to Maza Aa Jaye.
Chhup-Chhup Ke Mai Rota Rehta Hun
बन के रहमत का इक झोंका साँसों को महका,
सरवरे आलम के रौजे कि खुशबू लेकर आ,
आ-आ रे चिरईया आ-आ रे चिरईया आ-आ
आ-आ रे चिरईया आ-आ रे चिरईया आ-आ
आजा इश्के नबी कि चिरई दूर से न तड़पा,
आ-आ रे चिरईया आ-आ रे चिरईया आ-आ
आ-आ रे चिरईया आ-आ रे चिरईया आ-आ
कहना सलामे उम्मत पहले फिर सारा दुखड़ा कहना,
दर्दे उदासी मल के परो पर आका को दिखला देना,
उड़ता हुआ तू हिन्द नगर से शहरे मदीना जा,
आ-आ रे चिरईया आ-आ रे चिरईया आ-आ,
आ-आ रे चिरईया आ-आ रे चिरईया आ-आ,
गम से हूँ रंजूर बहुत मैं तैबा से हूँ दूर बहुत,
कहना कमली वाले से मैं आका हूँ मजबूर बहुत,
दुखियारी उम्मत का संदेशा तैबा लेकर जा,
आ-आ रे चिरईया आ-आ रे चिरईया आ-आ,
आ-आ रे चिरईया आ-आ रे चिरईया आ-आ,
रोज फ़रिश्ते उनके दर पर बहरे सलामी आते हैं,
जिनके गुलामों कि ठोखर से मुर्दे भी जी जाते हैं,
उनसे कहना लेके सुनेहरी जाली का बोसा,
आ-आ रे चिरईया आ-आ रे चिरईया आ-आ,
आ-आ रे चिरईया आ-आ रे चिरईया आ-आ,
दर-दर से ठुकराए हैं जां कि बाजी लगाए हैं,
आँख दिखाती है ये दुनिया डसते ज़ुल्म के साये हैं,
दहशतगर्द ज़माना कहके करता है रुसवा,
आ-आ रे चिरईया आ-आ रे चिरईया आ-आ,
आ-आ रे चिरईया आ-आ रे चिरईया आ-आ,
गौस के दर का कह देना एक मंगता रो-रो कहता है,
कहना घुट-घुट के ख्वाजा के भारत मे ये रहता है,
नाम है अकमल रंजों अलम का लगता है पुतला,
आ-आ रे चिरईया आ-आ रे चिरईया आ-आ,
आ-आ रे चिरईया आ-आ रे चिरईया आ-आ ।

By sulta