हाज़िर हैं तेरे दरबार में हम

 
हाज़िर हैं तेरे दरबार में हम
अल्लाह करम अल्लाह करम
देती है सदा ये चश्मे-नम
अल्लाह करम अल्लाह करम

जिन लोगों पे है इनआ़म तेरा
उन लोगों में लिख दे नाम मेरा
मेहशर में मेरा रेह जाए भरम
अल्लाह करम अल्लाह करम
हाज़िर हैं तेरे दरबार में हम
अल्लाह करम अल्लाह करम
हर साल तलब फरमा मुझ को
हर साल वो शहर दिखा मुझ को
हर साल करूँ मैं तवाफ़े-हरम
अल्लाह करम अल्लाह करम
हाज़िर हैं तेरे दरबार में हम
अल्लाह करम अल्लाह करम
हैबत से हर एक गरदन ख़म है
हर आँख नदामत से नम है
हर चेहरे पे है अश्कों से रकम
अल्लाह करम अल्लाह करम
हाज़िर हैं तेरे दरबार में हम
अल्लाह करम अल्लाह करम
मेरी आने वाली सब नस्लें
तेरे घर आएं तेरा दर देखें
असबाब हो उनको ऐसे बहम
अल्लाह करम अल्लाह करम
हाज़िर हैं तेरे दरबार में हम
अल्लाह करम अल्लाह करम
देती है सदा ये चश्मे-नम
अल्लाह करम अल्लाह करम
लब्बैक लब्बैक अल्लाहुम्म लब्बैक
लब्बैक लब्बैक अल्लाहुम्म लब्बैक

Leave a Reply

Your email address will not be published.