पहंजी साईं चौंठ चुमायो सुहिणी दरबार घुमायो

मदीनु, मदीनु, मदीनु, मदीनु
मदीनु, मदीनु, मदीनु, मदीनु
सिक लगी आ मदीने जी, आक़ा ! मदीनु डेखार
डिसी तोहजो दरबार, नैण ठरन मुं ग़रीब जा
आक़ा, आक़ा, आक़ा, आक़ा
पहंजी साईं चौंठ चुमायो, सुहिणी दरबार घुमायो
खुले भाग़, वरे वाग़, सुहिणा नबी नबी
हां प्यारा नबी नबी
हां सुहिणा नबी नबी
हां प्यारा नबी नबी

पहंजी साईं चौंठ चुमायो
करम जे करे थो नथी देर लगे का
क़ुर्ब तुहंजे जीय मिठा गाल करिया छा
पहंजी साईं चौंठ चुमायो
पहंजी साईं चौंठ चुमायो, सुहिणी दरबार घुमायो
खुले भाग़, वरे वाग़, सुहिणा नबी नबी
हां प्यारा नबी नबी
हां सुहिणा नबी नबी
हां प्यारा नबी नबी
पहंजी साईं चौंठ चुमायो
गुम्बदे-ख़ज़रा जो नज़ारो अजीब आ
जे को डिसे तेहंजो भलारो नसीब आ
पहंजी साईं चौंठ चुमायो
पहंजी साईं चौंठ चुमायो, सुहिणी दरबार घुमायो
खुले भाग़, वरे वाग़, सुहिणा नबी नबी
हां प्यारा नबी नबी
हां सुहिणा नबी नबी
हां प्यारा नबी नबी
पहंजी साईं चौंठ चुमायो
रियाज़ुल-जन्नत में पड़ां नफ़्ल अची मां
मिटी तुहंजे मुल्क जी प्यो अखियन ते रखां
पहंजी साईं चौंठ चुमायो
पहंजी साईं चौंठ चुमायो, सुहिणी दरबार घुमायो
खुले भाग़, वरे वाग़, सुहिणा नबी नबी
हां प्यारा नबी नबी
हां सुहिणा नबी नबी
हां प्यारा नबी नबी
पहंजी साईं चौंठ चुमायो
मोराइ जावेद भी आ पोहंचे मदीने
सालन खां आहे इहां सिक मुहंजे सीने
पहंजी साईं चौंठ चुमायो

पहंजी साईं चौंठ चुमायो, सुहिणी दरबार घुमायो
खुले भाग़, वरे वाग़, सुहिणा नबी नबी
हां प्यारा नबी नबी
हां सुहिणा नबी नबी
हां प्यारा नबी नबी
पहंजी साईं चौंठ चुमायो
आक़ा, आक़ा, आक़ा, आक़ा

By sulta